Toggle Nav

१००% हथकरघा ♦ पूर्ण अहिंसक ♦ श्रम पोषक ग्रामीण स्वरोजगार

My Cart 0 Item (s)

अभिषेक राजपूत

अभिषेक राजपूत

अभिषेक राजपूत

उम्र 17, बुनकर

अभिषेक ने 9वि के बाद पड़ाई छोड़ दी उनका कहना है की ये किताबी पड़ाई में उनका मन नहीं लगता और वे केवल प्रायोगिक एवं प्रत्यक्ष रुपी कार्य करने में ही रूचि रखते है, कुछ समय पिताजी के साथ खेती में हाथ बटाने के बाद उनकी ये रूचि उन्हें बीनाजी में स्तिथ हथकरघा प्रशिक्षण केंद्र में ले आई| हथकरघा केंद्र की क्रियाशेली उन्हें बहुत पसंद आई और इसे ही उन्होंने अपना जीवन यापन करने का साधन बाना लिया| हथकरघा केंद्र में सक्रिय और वास्तविक विद्या को सिख कर वे प्रति दिन उत्साहित रहते है | वे इस कार्य से रु12,000 प्रति माह अर्जित कर लेते है और अपनी पूरी कमाई पिताजी को ही सौंप देते है| उनका पूरा परिवार उन पर गर्व करता है|


5 Items

per page
Set Descending Direction

5 Items

per page
Set Descending Direction